Saturday, September 4, 2010

hindi ka mahatva

हिन्दी संवैधानिक रूप से भारत की प्रथम राजभाषा है और भारत की सबसे अधिक बोली और समझी जानेवाली भाषा है। चीनी के बाद यह विश्व में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा भी है।
हिन्दी और इसकी बोलियाँ उत्तर एवं मध्य भारत के विविध प्रांतों में बोली जाती हैं । भारत और विदेश में ६० करोड़ से अधिक लोग हिन्दी बोलते, पढ़ते और लिखते हैं। फ़िजी, मॉरिशस, गयाना, सूरीनाम की अधिकतर और नेपाल की कुछ जनता हिन्दी बोलती है।
हिन्दी राष्ट्रभाषा, राजभाषा, सम्पर्क भाषा, जनभाषा के सोपानों को पार कर विश्वभाषा बनने की ओर अग्रसर है। भाषा विकास क्षेत्र से जुड़े वैज्ञानिकों की भविष्यवाणी हिन्दी प्रेमियों के लिए बड़ी सन्तोषजनक है कि आने वाले समय में विश्वस्तर पर अन्तरराष्ट्रीय महत्त्व की जो चन्द भाषाएँ होंगी उनमें हिन्दी भी प्रमुख होगी।

18 comments:

Anonymous said...

not good
iam very good

aiman said...

nice, par bohaut chota hai

aiman said...

nice par chota hai

aiman said...

nice, par bohaut chota hai

Anonymous said...

it was good u shud hav written somthing bigger

Anonymous said...

very short

Anonymous said...

I don't like hindi

Anonymous said...

Nice.... and very good........... I like it but too short............

Anonymous said...

tooo short

Anonymous said...

Very short

Anonymous said...

toooooooooooooooo
shortttttt

Anonymous said...

Itna chota ! Bahut na insaafi hai .

Nilesh said...

very useful for me........
thankxxx SHRI DHEERAJ KUMAR

Saksham+ said...

It relly helped me thanx....

SURENDRA said...

HINDI HAM SABONKO JODTA HEI. UNITY IN DIVERSITY AND DIVERSITY IN UNITY IS REPRESENTED BY THIS LANGUAGE.
YAHA BHASA BAHUT SARAL AND SUNDAR HEI. AAM ADMI BAHUT ASANI SE IS KA PRAYOG KAR SAKTA HEI.
HAR BHASA ACHHA HEI, MAGAR BHRAT KELIYE HINDI BAHUT KHAAS HEI.

Anonymous said...

very nice but useful information

Mansi Garg said...

I had to write an essay on hindika mehatva and this really helped me... It was very nyc...����

Mansi Garg said...

It was great...i liked it....very nice...